pradhanmantri-sukshm-khady-unnayan-Yojana

PM Suksham Khad Unnayan

PM Suksham Khad Unnayan – खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मत्रालयने राज्य /संघ राज्य क्षेत्र सरकार की भागीदारी ने मौजूदा सूक्ष्म खाद्य उद्योमो के लिए वित्तीय ,तकनीकी एव कारोबार सहायता देने के लिए अखिल भारतीय आधार पर “पि एम एफ एम ई -प्रधान मंत्री सूक्ष्म खाद्य उन्नयन योजना शुरू की है।

  1. एचडी यस यस यस स्वच्छता मानकों को और उद्योग आधार के लिए पंजीकरण के साथ-साथ उन्नयन एवं फार्मूला जेशन के लिए पूंजी निवेश हेतु सहायता.
  2. कुशल प्रशिक्षण खाद्य सुरक्षा एंड कौन-कौन एवं स्वच्छता के संबंध में तकनीकी जानकारी के लिए देने एवं गुणवत्ता सुधार के माध्यम से क्षमता निर्माण
  3. बैंक लोन एवं डीपीआर तैयार करने के लिए हैंड होल्डिंग सहायता
  4. पूंजी निवेश इंफ्रास्ट्रक्चर टॉप ब्रांड एवं वेतन सहायता के लिए कोशिक उत्पादक संगठन स्व सहायता समूह उत्पादक सरिता को सहायता

एक जिला एक उत्पाद योजना :

एक जिला एक उत्पाद योजना इस योजना में एक जिला एक उत्पाद दृष्टिकोण के तहत इन पुट्टी खरीद सामान्य सेवाओं का लाभ लेने तथा उत्पादन के विपणन के लाभों को प्राप्त करने का अवसर मिलेगा. राज्य मौजूदा समूह और कच्ची सामग्री को ध्यान में रखते हुए 1 जिले के लिए खाद्य उत्पादक निर्धारित करेंगे. वोडी ओपी उत्पादन शीघ्र सनी गिरने वाली ऑफिस पर आधारित अनाज आधारित उत्पादन या व्यापक रूप से जिले और उनके सहयोगी क्षेत्रों में उत्पादित खाद्य उत्पादन हो सकता है.

उदाहरण के तौर पर आम ,आलू,लिंची।,टमाटर साबूदाना ,किन्नू ,भुजिया ,पेठा ,पापड़ ,अचार  ,मोटे अनाज आधारित उत्पादन ,मस्तीकी ,पोल्ट्री मांस ,तथा पशु चारा।  ओडीओपी दृष्टिकोण के तहत उत्पादन करने वाले को प्राथमिकता दी जाएगी हालांकि अन्य उत्पादन का उत्पादन करने वाले उद्योगों को  भी समर्थन दिया जाएगा वोडी वोपी दृष्टिकोण की तरह उत्पादन के लिए सामान्य बुनियादी ढांचे  और ब्रडिंग और विपणन  के लिए समर्थन दिया जाएगा.

image 2

व्यक्तिगत खाद्य उद्योग का उन्नयन :

image 9

अपने उद्यम का नियम करने के जोक सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यमी योजना ऑब्जेक्ट लागत के 25% क्रेडिट लिंक कैपिटल सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं अधिकतम सब्सिडी 10 लाख रुपए प्रति मध्यम तक हो सकती है लाभार्थी का योगदान निम्नतम 10% होना चाहिए और शेष राशि बैंक से रूम होनी चाहिए.

एफ पि वो ,स्वयं सहाय्यता समूंहों एव कोआपरेटिव को सहाय्यता :

image 7

यह योजना ३५% क्रेडिट लिंक्ड अनुदान सहित सम्पूर्ण मूल्य श्रंखला समेत पूंजी निवेश हेतु एफ पि वो /स्वंय सहाय्यता समूहों /उत्पादक सहकारितिवो को सहायता प्रदान करेगी।

स्वयं सहाय्यता समूंहों को प्रारंभिक पूंजी :

image 5

वर्किंग कैपिटल तथा छोटे औजारों की खरीद के लिए खाद्य प्रसंस्करण में कार्यरत स्वय सहाय्यता समूहों के प्रत्येक सदस्य को ४००००/-रुपये की दर से प्रारंभिक पिंजी प्रदान की जाएगी। अनुदान के रूप में प्रारंभिक पूंजी यस यस जी के माध्यम से ऋण के रूप में सदस्यों को दी जाएगी।

सामान्य अव संरचना :

image 6

एफ पि वो /यस एच जी /सहकारितावो,राज्य के स्वामित्व वाली एजेंसिया और निजी उद्यमियों को सामान्य प्रसंस्करण सुविधा ,प्रयोगशाला ,गोदाम ,कोल्ड स्टोरेज ,पैकिंग  और इन्क्यूबेशन केंद्र समेत इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए ३५% की दर से क्रेडिट लिंक्ड अनुदान उपलब्ध कराया जायेगा।

ब्रांडिंग और विक्री सहायता :

image 8

साँझा पैकेजिंग और ब्रांडिंग विकसित करने ,गुणवत्ता नियत्रण ,मनकी कारन का विकास करने तथा उपभोक्ता फुटकर विक्री के लिए फ़ूड सेफ्टी परमिटारो का पालन करने के लिए वोडी वोपी दृश्टिकोण अपनाते हुवे योजना के अंतर्गत एफ पि वो /यस एच जी /सहकारितावो अथवा सुक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यो,ो यस पि वि को ब्रांडिंग और विक्री सहायता दी जाएगी। इन संगठनो को सहायता उनके द्वारा तैयार की गयी दी पि आर और राज्य नोडल एजेंसी द्वारा दिए गए अनुमोदन के आधार पर दी जाएगी। ब्रांडिंग और विपणन के लिए सहायता कुल व्यय की ५०% तक सिमित होगी।

आवेदन की प्रक्रिया :

सहायता प्राप्त करने के इच्छुक मौजूदा खाद्य प्रसंस्करण यूनिटे एव एफ एम ई पोर्टल पर आवेदन कर सकते है। क्षेत्र स्तरीय सहायता के लिए नियोजित जिला रिसोर्स पर्सन दी पि आर तैयार करने ,बैंक ऋण प्राप्त करने।,आवश्यक पंजीकरण तथा  यस ये आय के खाद्य मानकों ,उद्योग आधार एव जी यस टी प्राप्त करने के लिए हैंड होल्डिंग सहायता उपलब्ध कराएँगे।

सरकार द्वारा अनुदान ऋण डाटा बैंक में लाभार्थी के कहते में जमा किया जायेगा। यदि ऋण की अंतिम किश्त के सवितरण से ३ वर्ष की अवधि के पच्यात लाभार्थी अगर नियमित ऋण व् ब्याज चूका रहा है। और उद्यम ढंग से काम कर रहा हो तो यह राशि लाभार्थी के बैंक कहते में समायोजित की जाएगी। ऋण में अनुदान राधी के लिए बैंक द्वारा कोई ब्याज नहीं किया जायेगा।

दिशा निर्देश एव संपर्क :

योजना के विस्तृत दिशानिर्देश मंत्रालय की वेबसाइट –यहा क्लिक करे पर देखे जा सकते है। व्यक्तिगत उद्यमी एव अन्य इच्छुक लोग योजना शुरू किय जाने तथा जिला स्टार पर संपर्क शानो के सबंध में अपने रजो /संघ रंज क्षेत्रो के राज्य नोडल एजेंसी से संपर्क कर सकते है।

You Can Also Read – ई-श्रम कार्ड योजना। गरीब मजदूर और श्रमिकों को मिलेगा लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published.